MBA Chai Wala Success Story- 23 वर्षीय युवक ने कैसे खड़ी की करोड़ों की चाय पिलाने की कंपनी!

Rate this post

MBA Chai Wala Success Story: यह तो आपने सुना ही होगा कि कोई भी काम बड़ा या छोटा नहीं होता है। बल्कि बड़ी या छोटी होती है तो सिर्फ इंसान की सोच। किसी भी काम को छोटा समझने के पीछे लोगों की एक प्रवृत्ति यह भी होती है कि वह सफलता के लिए संघर्ष करना नहीं जानते हैं।

लेकिन एक ऐसा भी व्यक्ति है जिसने मात्र 23 साल की उम्र में (mba chai wala age) अपनी योग्यता के विपरीत एक छोटा सा काम शुरू किया और संघर्ष के बल पर ही बन गया एक जाना माना बिजनेसमैन। एक ऐसा बिजनेसमैन जिसने बहुत ही कम समय में करोड़ों रुपए का टर्नओवर हासिल करने वाली एक बड़ी कंपनी खड़ी कर दी है।

जी हां दोस्तों हम बात कर रहे हैं, 23 वर्षीय प्रफुल्ल Billore की जो कि एमबीए चायवाला के नाम से पूरी दुनिया में मशहूर है। आइए जानते हैं Prafull Billore के बचपन से लेकर एमबीए चायवाला के मालिक बनने तक की पूरी कहानी।

MBA Chai Wala Success Story

mba-chai-wala-success-story
Image By: Canva

MBA Chai Wala Biography

Prafull Billore का प्रारंभिक जीवन-

MBA Chai Wala Owner, प्रफुल्ल बिलोरे का जन्म इंदौर, मध्य प्रदेश के एक छोटे से गांव लबरावदा में 14 जनवरी, 1996 में हुआ। प्रफुल्ल बिलोरे एक मध्यमवर्गीय किसान परिवार से संबंध रखते हैं। वे बचपन से ही महत्वाकांक्षी प्रवृत्ति और उच्च सोच के मालिक रहे हैं।

Prafull Billore- MBA Chai Wala Qualification

प्रफुल्ल बिलोरे की प्रारंभिक शिक्षा इंदौर से ही पूर्ण हुई है। इसके पश्चात उन्होंने एक मान्यता प्राप्त कॉलेज से B.Com की डिग्री भी हासिल की है। परंतु उच्च शिक्षा के लिए Prafull Billore ने अहमदाबाद के प्रख्यात इंस्टीट्यूट आईआईएम से एमबीए की डिग्री हासिल करने का लक्ष्य बनाया।

प्रफुल्ल बिलोरे बचपन से ही शिक्षा के क्षेत्र में अग्रणी स्थान पर रहे हैं। उनकी शिक्षा के प्रति ऐसी लगन को देखकर उनका पूरा परिवार भी उन्हें आई आई एम में दाखिला लेते हुए देखना चाहता था। परंतु लगातार 3 वर्ष तक CAT (Common Aptitute Test) की तैयारी करने के बावजूद वे इस परीक्षा मे सफलता हासिल नहीं कर सके। परिणाम स्वरूप IIM से MBA करने का उनका और उनके पूरे परिवार का सपना अधूरा ही रह गया।

हालांकि इस परीक्षा में असफल होने के उपरांत Prafull Billore एक बार पूरी तरह से उदास हो गए। परंतु उन्होंने हिम्मत नहीं हारी क्योंकि वे जानते थे कि असफलता ही सफलता की पहली सीढ़ी है। अपनी इसी उच्च सोच के आधार पर ही प्रफुल्ल बिलोरे ने खुद का बिजनेस आरंभ करने का निर्णय लिया। उनका मानना था कि कैट परीक्षा में असफल होना उनके करियर का End नहीं बल्कि आरंभ था।

ये भी पढ़ें: Affiliate Marketing Kya Hai और इससे पैसे कमाना कैसे शुरू करें?

Motivational Story of Crorepati Chaiwala in Hindi

CAT Exam में सफलता न मिल पाने पर प्रफुल्ल बिलोरे ने पढ़ाई को छोड़ने का मन बना लिया। इसी तनाव से छुटकारा पाने के लिए वे भारत के विभिन्न शहरों में घूमने के लिए निकल पड़े और इसी दौरान अहमदाबाद, गुजरात में पहुंच गए। वहां से उन्होंने एक साधारण चाय वाला के रूप में अपना सफर शुरू किया था जो उन्हें आज करोड़पति चायवाला के रूप में लोकप्रिय बना रहा है।

motivational-story-of-crorepati-chai-wala-mba-chai-wala
Image Credit: MBA Chai Wala

परंतु उन्होंने अहमदाबाद में टी स्टॉल आरंभ करने से पहले मैकडॉनल्ड में नौकरी करना शुरू किया था जहां उन्हें प्रति घंटा के हिसाब से ₹35 वेतन के रूप में मिलते थे। जैसा कि आप जानते ही हैं कि प्रफुल्ल बिलोरे बचपन से ही हर चीज को सीखने के लिए उत्सुक रहते थे। ऐसे में मैकडॉनल्ड के साथ नौकरी का एक्सपीरियंस भी उनके बिजनेसमैन बनने में काम आया है।

Prafull Billore Tea Stall की शुरुआत

हालांकि जब उन्होंने पहली बार चाय का स्टाल खोला तो उनके कुछ दोस्तों द्वारा उनका मजाक भी उड़ाया जाता था। परंतु वे सोचते थे कि जब Dream बड़ा हो तो छोटे काम को भी बड़ा बनाया जा सकता है। वैसे भी कोई बड़ा बिजनेस स्टार्ट करने के लिए उनके पास पैसा नहीं था।

लेकिन उन्होंने चाय का ठेला शुरू करने के लिए अपने पिता से पढ़ाई का बहाना लगाकर ₹10,000 मांगे। उन्होंने बिना किसी ज्यादा इन्वेस्टमेंट के अपनी समझदारी का परिचय देते हुए एक छोटा सा टी स्टॉल खोलने का निर्णय लिया।

प्रफुल्ल बिलोरे ने टी स्टॉल खोलने के लिए सबसे पहले रोड फ्रंट पर लोकेशन को ढूंढना शुरू किया और इस खोज में उन्हें 3 सप्ताह का समय लग गया। परंतु जैसे ही MBA Mr. Billore A’bad Chai wala टी स्टॉल शुरू हुआ तो देखते ही देखते लोगों का तांता लगना आरंभ हो गया। उसके tea स्टॉल पर लोगों की भीड़ बढ़ने के पीछे भी प्रफुल्ल बिलोरे का तेज दिमाग था।

दरअसल पहले दिन की शुरुआत में उनके पास ज्यादा ग्राहक नहीं आए तो उन्होंने ग्राहकों को लुभाने के लिए अंग्रेजी बोलना आरंभ कर दिया। उनकी अंग्रेजी भाषा को सुनकर लोगों को हैरानी होती थी कि क्या कोई चाय वाला भी अंग्रेजी बोल सकता है। उनकी यही तरकीब काम आई और देखते ही देखते उन्होंने 1 दिन में ₹4000 से ₹5000 तक की चाय बेचनी आरंभ कर दी।

शुरुआत में प्रफुल्ल बिलोरे ने नौकरी के उपरांत पार्ट टाइम जॉब के रूप में चाय का ठेला लगाना शुरू किया था। परंतु जब उन्हें लगा कि वे tea stall से अच्छी खासी कमाई करने लगे हैं तो उन्होंने अपनी नौकरी छोड़ दी और पूरा ध्यान अपने टी स्टॉल के बिजनेस पर केंद्रित किया।

प्रफुल्ल बिलोरी ने अपनी टी स्टॉल को ब्रांड बनाने के उद्देश्य से उसका नामकरण करने का सोचा। लेकिन एक अच्छा नाम रखने के लिए उन्हें चार सौ नाम की लिस्ट तैयार करनी पड़ी। आखिरकार उन्होंने अपनी tea stall के लिए “मिस्टर बिलोरे अहमदाबाद” का नाम फाइनल किया जो बाद में एमबीए चायवाला के रूप में ज्यादा लोकप्रिय हुआ।

MBA Chai Wala Franchise

प्रफुल्ल बिलोरी ने अपनी मेहनत का लोहा हर किसी को मनवा दिया। जो लोग एमबीए चायवाला की टी स्टॉल को देखकर उनका मजाक उड़ाते थे, अब वही लोग उनके Tea Cafe की चाय पीने के लिए कतारों में लगे रहते है।

mba-chai-wala-franchise-stores-in-india

यह तो आपने सुना ही होगा की एक और एक ग्यारह होते हैं और यह बात एमबीए चायवाला के साथ बिल्कुल सच भी साबित हुई है। एमबीए चायवाला की तरक्की के पीछे उनके दो दोस्तों का भी बड़ा हाथ है जिनके साथ मिलकर ही प्रफुल्ल बिलोरे ने पूरे भारत में अपने बिजनेस का प्रचार किया है।

एमबीए चायवाला की लोकप्रियता को देखते हुए प्रफुल्ल बिल्लोरे ने भारत के अनेक शहरों में फ्रेंचाइजी खोलना शुरू कर दिया। आज पूरे भारत में एमबीए चायवाला की फ्रेंचाइजी, प्रफुल्ल बिलोरे की टी स्टॉल का स्वाद पेश कर रही है।

केवल भारत ही नहीं अपितु लंदन में भी एमबीए चायवाला के आउटलेट खुल चुके हैं और बाकी देशों में भी एमबीए चायवाला जल्द ही पहुंचने वाला है।

ये भी पढ़ें:

MBA Chai Wala Franchise Kaise Le- Hindi | How to get MBA Chai Wala Franchise in India

MBA Chai Wala Turnover- कमाई

एमबीए चायवाला के पूरे भारत में 50 से भी ज्यादा फ्रेंचाइजी लोगों को अपनी सेवा प्रदान कर रहे हैं। एक साधारण चाय का ठेला लगाने वाला प्रफुल्ल बिलोरे आज एमबीए चायवाला के रूप में सालाना 3 करोड़ रुपए का टर्नओवर कमा रहा है।

तो दोस्तों हमें उम्मीद है कि MBA Chai Wala Success Story In Hindi | Motivational Story Of Prafull Billore आपको बहुत पसंद आई होगी। हम आपसे विनती करते हैं कि इस पोस्ट को सभी के साथ शेयर करें ताकि Crorepati Chai Wala की कहानी से सभी को प्रेरणा मिल सके।

Sharing Is Caring:

Leave a comment